20210428_231838.jpg
Jimikand ki kheti kaise kare

जिमीकंद की खेती.एपिसोड पसला

कृषि दर्शन।जिमीकंद कृषक कृपया ध्यान देवें जिमीकंद खेती की तैयारी का समय आ चुका है अतः किसान भाई खेत की तैयारी शुरू कर दे वे इसके लिए सर्वप्रथम अपने खेत में जितना भी बायोमास पड़ा हुआ है बायोमास से मेरा तात्पर्य पिछली फसल अवशेष से है इस बायोमास को किसान भाई भूल कर भी ना जलाएं फसल अवशेष को जलाने से खाद नहीं बनता बल्कि हमारे खेतों के जैविक कार्बन सब जल जाते हैं मित्र बैक्टीरिया जो फसल उत्पादन में सहायता करते हैं सब मर जाते हैं और कुछ गिने-चुने केंचुआ बचा हुआ है वह भी नष्ट हो जाते हैं अतः फसल अवशेष भूलकर भी ना जलाएं ।

यह मेरी सभी किसान भाइयों से करबद्ध प्रार्थना है फसल अवशेष बिल्कुल भी भूल कर भी कभी भी ना जलाएं न जलाएं यह मेरी विशेष विनती है बल्कि फसल अवशेष को खाद के रूप में अपघटित करें इसके लिए किसान भाई पानी के साथ वेस्ट डी कंपोजर का 50 परसेंट घोल का छिड़काव कर दें चाहे तो ऐसा दो बार कर सकते हैं जिससे कि फसल अवशेष जल्द ही डीकंपोज हो जाएगा इसके बाद खेत को मिट्टी पलटने वाले हल से जुताई करके 10 -15 दिन धूप खाने के लिए छोड़ दें किसान भाई नव नास या 11 नास वाले हल से भी दो तीन बार गहरी जुताई करके 10 -15 दिन धूप खाने के लिए छोड़ सकते हैं उसके बाद ही आगे की प्रक्रिया प्रारंभ करें शेष जानकारी अगले अंक में…..

किसान भाई जिमीकंद बीज के लिए संपर्क कर सकते हैं 

मो नं 96 1747 9142 धन्यवाद

अगले एपिसोड के लिए google मे search🔍 करें satta khabar krishi darshan या satta khabar agriculture

Leave a Reply

Your email address will not be published.